Stirring: Bihar Governor Fagu Chauhan Summoned To Delhi On Wednesday, Speculation Intensifies Due To Pmos Call – सरगर्मी : बिहार के राज्यपाल फागू चौहान बुधवार को दिल्ली तलब, पीएमओ के बुलावे से अटकलें तेज

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना
Published by: सुरेंद्र जोशी
Updated Tue, 23 Nov 2021 11:11 PM IST

सार

राज्यपाल चौहान को किस लिए बुलाया गया है, यह अभी स्पष्ट नहीं है, लेकिन इससे अटकलें तेज हो गई हैं। 

ख़बर सुनें

बिहार के बिहार के राज्यपाल फागू चौहान को अचानक पीएमओ ने दिल्ली बुलाया है। वे बुधवार दोपहर पटना से दिल्ली जाएंगे।

राज्यपाल चौहान को किस लिए बुलाया गया है, यह अभी स्पष्ट नहीं है, लेकिन इससे अटकलें तेज हो गई हैं। राजभवन के एक अधिकारी ने राज्यपाल को दिल्ली तलब किए जाने की पुष्टि की है। कयास लगाए जा रहे हैं कि राज्य की नीतीश सरकार व राजभवन के बीच विभिन्न मामलों में बढ़ती दूरी भी चौहान को दिल्ली तलब किए जाने की एक वजह हो सकती है। 

माना जा रहा है कि मगध विश्वविद्यालय के कुलपति राजेंद्र प्रसाद पर भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद उन पर कार्रवाई नहीं करना, मौलाना महजरुल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय के टेंडर में धांधली पर भी प्रभारी कुलपति पर कार्रवाई नहीं करना और उल्टा उन्हें सम्मानित करना भी नीतीश सरकार और राजभवन में दूरी का सबब बना हुआ है। 

मगध विवि के कुलपति राजेंद्र प्रसाद पर 30 करोड़ रुपये के गबन के अलावा भी कई आरोप हैं। विजिलेंस ने कुलपति के बिहार से लेकर उत्तर प्रदेश तक के ठिकानों पर छापेमारी की थी। इस बीच कुलाधिपति फागू चौहान ने मंगलवार को राजेंद्र प्रसाद को 24 नवंबर से 23 दिसंबर तक चिकित्सा अवकाश मंजूर कर दिया। 

विस्तार

बिहार के बिहार के राज्यपाल फागू चौहान को अचानक पीएमओ ने दिल्ली बुलाया है। वे बुधवार दोपहर पटना से दिल्ली जाएंगे।

राज्यपाल चौहान को किस लिए बुलाया गया है, यह अभी स्पष्ट नहीं है, लेकिन इससे अटकलें तेज हो गई हैं। राजभवन के एक अधिकारी ने राज्यपाल को दिल्ली तलब किए जाने की पुष्टि की है। कयास लगाए जा रहे हैं कि राज्य की नीतीश सरकार व राजभवन के बीच विभिन्न मामलों में बढ़ती दूरी भी चौहान को दिल्ली तलब किए जाने की एक वजह हो सकती है। 

माना जा रहा है कि मगध विश्वविद्यालय के कुलपति राजेंद्र प्रसाद पर भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद उन पर कार्रवाई नहीं करना, मौलाना महजरुल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय के टेंडर में धांधली पर भी प्रभारी कुलपति पर कार्रवाई नहीं करना और उल्टा उन्हें सम्मानित करना भी नीतीश सरकार और राजभवन में दूरी का सबब बना हुआ है। 

मगध विवि के कुलपति राजेंद्र प्रसाद पर 30 करोड़ रुपये के गबन के अलावा भी कई आरोप हैं। विजिलेंस ने कुलपति के बिहार से लेकर उत्तर प्रदेश तक के ठिकानों पर छापेमारी की थी। इस बीच कुलाधिपति फागू चौहान ने मंगलवार को राजेंद्र प्रसाद को 24 नवंबर से 23 दिसंबर तक चिकित्सा अवकाश मंजूर कर दिया। 


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button