Rajasthan: Cait Demands Strict Action Against Amazon For Selling Marijuana – राजस्थान : सीएआईटी ने मारिजुआना बेचने को लेकर अमेजन के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की

एजेंसी, जयपुर
Published by: Kuldeep Singh
Updated Tue, 23 Nov 2021 06:00 AM IST

सार

सीएआईटी राजस्थान के अध्यक्ष सुभाष गोयल ने सोमवार को कहा, केंद्र और राज्यों को ई-कॉमर्स मंचों पर वर्जित लेनदेन रोकने के लिए नियम बनाने चाहिए। गोयल का कहना है, अमेजन पर मारिजुआना बेचे जाने को लेकर मध्यप्रदेश में कंपनी पर एफआईआर दर्ज हो चुकी है। सरकार को जांच कर दोषियों को दंडित करना चाहिए।

ख़बर सुनें

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) ने ऑनलाइन मारिजुआना बिक्री को लेकर ई-कॉमर्स दिग्गज अमेजन के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। सीएआईटी राजस्थान के अध्यक्ष सुभाष गोयल ने सोमवार को कहा, केंद्र और राज्यों को ई-कॉमर्स मंचों पर वर्जित लेनदेन रोकने के लिए नियम बनाने चाहिए।

गोयल का कहना है, अमेजन पर मारिजुआना बेचे जाने को लेकर मध्यप्रदेश में कंपनी पर एफआईआर दर्ज हो चुकी है। सरकार को जांच कर दोषियों को दंडित करना चाहिए। उन्होंने मल्टीनेशनल कंपनियों के खिलाफ कोई ढिलाई न बरते जाने की भी अपील की है।

हम इन कंपनियों को हमारे युवाओं के स्वास्थ्य और भविष्य से खिलवाड़ नहीं करने दे सकते। इसके लिए सरकार को ऑनलाइन वित्तीय लेन-देन पर नजर रखने के लिए एक प्रक्रिया विकसित करनी चाहिए। दुकानों पर तो लेनदेन सत्यापित होता है लेकिन ऑनलाइन भरोसा नहीं किया जा सकता। 

 

विस्तार

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) ने ऑनलाइन मारिजुआना बिक्री को लेकर ई-कॉमर्स दिग्गज अमेजन के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। सीएआईटी राजस्थान के अध्यक्ष सुभाष गोयल ने सोमवार को कहा, केंद्र और राज्यों को ई-कॉमर्स मंचों पर वर्जित लेनदेन रोकने के लिए नियम बनाने चाहिए।

गोयल का कहना है, अमेजन पर मारिजुआना बेचे जाने को लेकर मध्यप्रदेश में कंपनी पर एफआईआर दर्ज हो चुकी है। सरकार को जांच कर दोषियों को दंडित करना चाहिए। उन्होंने मल्टीनेशनल कंपनियों के खिलाफ कोई ढिलाई न बरते जाने की भी अपील की है।

हम इन कंपनियों को हमारे युवाओं के स्वास्थ्य और भविष्य से खिलवाड़ नहीं करने दे सकते। इसके लिए सरकार को ऑनलाइन वित्तीय लेन-देन पर नजर रखने के लिए एक प्रक्रिया विकसित करनी चाहिए। दुकानों पर तो लेनदेन सत्यापित होता है लेकिन ऑनलाइन भरोसा नहीं किया जा सकता। 

 


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button