Farmers Warn Punjab Cm Channi Over Sugarcane Prices – किसानों की चन्नी को चेतावनी : गन्ने का मूल्य 14 दिन में नहीं बढ़ा तो चंडीगढ़ को बना देंगे दिल्ली

अमर उजाला नेटवर्क, चंडीगढ़
Published by: दुष्यंत शर्मा
Updated Mon, 29 Nov 2021 01:54 AM IST

सार

किसान एकता मोर्चा ने पंजाब सरकार को दिया 14 दिन का समय।

ख़बर सुनें

पंजाब में गन्ना मूल्यों को लेकर चन्नी सरकार की मुश्किलें बढ़ने वाली है। अब तक गन्ना मूल्यों को लेकर सरकार के कोई समाधान नहीं किए जाने को लेकर किसानों के तेवर तल्ख हो गए हैं। किसानों ने चेतावनी दी है कि यदि जल्द ही उनकी मांगों का समाधान नहीं किया तो वह चंडीगढ़ को दिल्ली बनाने से गुरेज नहीं करेंगे। उन्होंने सरकार को इसके लिए 14 दिन का समय दिया है।

किसान एकता मोर्चा की ओर से कहा गया है कि पंजाब के मुख्यमंत्री ने किसानों को भरोसा दिया था कि एक दो दिन में ही उनकी समस्या का समाधान हो जाएगा। मुख्यमंत्री के आश्वासन के 14 दिन बाद भी अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है। मोर्चा ने कहा, किसान पहले से ही यह स्पष्ट कर चुके हैं कि 325 और 35 रुपये जोड़कर गन्ने का मूल्य नहीं लेंगे।

किसानों को गन्ने का मूल्य 360 रुपये या तो गन्ना मिल मालिक दें या पंजाब सरकार।  मोर्चा के किसान नेता मनजीत सिंह राय, जंगवीर चौहान, बलविंदर सिंह ने बताया कि किसानों के साथ हुई मुख्यमंत्री की बैठक के बाद भी अभी तक उनकी मांगों पर कोई सुनवाई नहीं हुई है, जिस कारण मोर्चा की ओर से संघर्ष का रास्ता अख्तियार किया गया है।

कैप्टन ने बढ़ाया था गन्ना मूल्य
किसानों के प्रदर्शन के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गन्ना मूल्यों में वृद्धि का फैसला किया था। किसान नेताओं के साथ बैठक के बाद सरकार ने गन्ना मूल्य 310 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 360 रुपये किया था। कैप्टन के इस्तीफे के बाद चन्नी के मुख्यमंत्री बने 70 दिन से अधिक हो गए हैं, लेकिन अभी तक इस पर कोई फैसला नहीं हुआ है।

विस्तार

पंजाब में गन्ना मूल्यों को लेकर चन्नी सरकार की मुश्किलें बढ़ने वाली है। अब तक गन्ना मूल्यों को लेकर सरकार के कोई समाधान नहीं किए जाने को लेकर किसानों के तेवर तल्ख हो गए हैं। किसानों ने चेतावनी दी है कि यदि जल्द ही उनकी मांगों का समाधान नहीं किया तो वह चंडीगढ़ को दिल्ली बनाने से गुरेज नहीं करेंगे। उन्होंने सरकार को इसके लिए 14 दिन का समय दिया है।

किसान एकता मोर्चा की ओर से कहा गया है कि पंजाब के मुख्यमंत्री ने किसानों को भरोसा दिया था कि एक दो दिन में ही उनकी समस्या का समाधान हो जाएगा। मुख्यमंत्री के आश्वासन के 14 दिन बाद भी अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है। मोर्चा ने कहा, किसान पहले से ही यह स्पष्ट कर चुके हैं कि 325 और 35 रुपये जोड़कर गन्ने का मूल्य नहीं लेंगे।

किसानों को गन्ने का मूल्य 360 रुपये या तो गन्ना मिल मालिक दें या पंजाब सरकार।  मोर्चा के किसान नेता मनजीत सिंह राय, जंगवीर चौहान, बलविंदर सिंह ने बताया कि किसानों के साथ हुई मुख्यमंत्री की बैठक के बाद भी अभी तक उनकी मांगों पर कोई सुनवाई नहीं हुई है, जिस कारण मोर्चा की ओर से संघर्ष का रास्ता अख्तियार किया गया है।

कैप्टन ने बढ़ाया था गन्ना मूल्य

किसानों के प्रदर्शन के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गन्ना मूल्यों में वृद्धि का फैसला किया था। किसान नेताओं के साथ बैठक के बाद सरकार ने गन्ना मूल्य 310 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 360 रुपये किया था। कैप्टन के इस्तीफे के बाद चन्नी के मुख्यमंत्री बने 70 दिन से अधिक हो गए हैं, लेकिन अभी तक इस पर कोई फैसला नहीं हुआ है।


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button